ELECTRIC MOTOR DIAGRAM – विद्युत मोटर का नामांकित आरेख बनाइए। इसका सिद्धान्त तथा कार्यविधि स्पष्ट कीजिए

विद्युत मोटर का नामांकित आरेख बनाइए। इसका सिद्धान्त तथा कार्यविधि स्पष्ट कीजिए

उत्तर – विद्युत मोटर का नामांकित आरेख

विद्युत मोटर का नामांकित आरेख ELECTRIC MOTOR DIAGRAM –


सिद्धांत-किसी धारावाही चालक को किसी चुम्बकीय क्षेत्र के लंबवत् दिशा में रखने पर वह चालक यांत्रिक बल का अनुभव करता है। इस बल के कारण चालक बल की दिशा में में घूर्णन करता है। विद्युत धारावाही चालक पर आरोपित बल की फ्लेमिंग के वामहस्त नियम से ज्ञात करते हैं।

कार्य विधि-चित्र में दशाए गए के अनुसार विद्युत धारा चालक ब्रुश X से होते हुए कुंडली ABCD में प्रवेश करती है तथा चालक ब्रुशY से होते हुए बैट्री के दूसरे टर्मिनल पर वापस आ जाती है।

स्पष्टतः भुजा AB में विद्युत धारा A से B की ओर तथा भुजा CD में C से D की ओर प्रवाहित होती है। अतः धारा की दिशाएँ इन भुजाओं में परस्पर विपरीत होती हैं, इसलिए फ्लेमिंग के वामहस्त नियम द्वारा AB आरोपित बल उसे अधोमुखी धकेलता है जबकि भुजा CD पर आरोपित बल उपरिमुखी धकेलता है। अतः इस बल युग्म के कारण कुंडली तथा धुरी अक्ष पर वामावर्त घूर्णन करते हैं।

विभक्त वलय का कार्य विद्युत मोटर में विभक्त वलय दिक्परिवर्तक का कार्य करता है। चित्रानुसार विभक्त वलय P तथा Q का संपर्क क्रमशः ब्रुश X तथा Y से है, परंतु आधे घूर्णन के बाद Q का संपर्क ब्रुश X से होता है तथा P का संपर्क Y से होता है, जिसके फलस्वरूप कुंडली में धारा उत्क्रमित होकर पथ DCBA के अनुदिश प्रवाहित होती है। फ्लेमिंग के नियम से अब भुजा AB पर उपरिमुखी तथा भुजा CD पर अधोमुखी बल लगता है, जिसके कारण कुंडली तथा धुरी उसी दिशा में अब आधा घूर्णन और पूरा कर लेती हैं। अतः प्रत्येक आधे घूर्णन के बाद धारा के उत्क्रमित होने का क्रम दोहराता रहता है, जिसके कारण कुंडली तथा धुरी निरंतर घूर्णन करते रहते हैं।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top