smas in sanskriti

संस्कृत अनुवाद कैसे करें – संस्कृत अनुवाद की सरलतम विधि – sanskrit anuvad ke niyam part – 6

संस्कृत अनुवाद कैसे करें – संस्कृत अनुवाद की सरलतम विधि – sanskrit anuvad ke niyam part – 6 sanskrit anuvad ke niyam part – 6 स्मरण करें कुछ अव्यय शब्द और धातुएँ अव्यय –२३ . आजकल = अद्यत्वे,२४ . इस समय = इदानीम्, सम्प्रति,२५ . इधर-उधर = इतस्ततः२६ . तो = तर्हि, तु,२७ . एक …

संस्कृत अनुवाद कैसे करें – संस्कृत अनुवाद की सरलतम विधि – sanskrit anuvad ke niyam part – 6 Read More »

संस्कृत अनुवाद कैसे करें – संस्कृत अनुवाद की सरलतम विधि – sanskrit anuvad ke niyam part – 5

संस्कृत अनुवाद कैसे करें – संस्कृत अनुवाद की सरलतम विधि – sanskrit anuvad ke niyam part – 5 sanskrit anuvad ke niyam part – 5 स्मरण करें कुछ अव्यय शब्द और धातुएँ अव्यय –२३ . आजकल = अद्यत्वे,२४ . इस समय = इदानीम्, सम्प्रति,२५ . इधर-उधर = इतस्ततः२६ . तो = तर्हि, तु,२७ . एक …

संस्कृत अनुवाद कैसे करें – संस्कृत अनुवाद की सरलतम विधि – sanskrit anuvad ke niyam part – 5 Read More »

संस्कृत अनुवाद कैसे करें – संस्कृत अनुवाद की सरलतम विधि – sanskrit anuvad ke niyam part – 4

संस्कृत अनुवाद कैसे करें – संस्कृत अनुवाद की सरलतम विधि – sanskrit anuvad ke niyam part – 4 sanskrit anuvad ke niyam part – 4 आइये, आज इस भाग में कुछ अन्य अव्यय शब्द और धातुएँ स्मरण करते है अव्यय शब्द – १२ – रोज = प्रतिदिनम्,१३ – भी = अपि,१४ – बहुत = अति, …

संस्कृत अनुवाद कैसे करें – संस्कृत अनुवाद की सरलतम विधि – sanskrit anuvad ke niyam part – 4 Read More »

संस्कृत अनुवाद कैसे करें – संस्कृत अनुवाद की सरलतम विधि – sanskrit anuvad ke niyam part – 3

संस्कृत अनुवाद कैसे करें – संस्कृत अनुवाद की सरलतम विधि – sanskrit anuvad ke niyam part – 3 इसके बाद हमें अनुवाद करना है— वह अब क्यों खेलता है’, इस वाक्य का। ‘वह खेलता है’, इसका अनुवाद हम ‘सः खेलति या क्रीडति’ बना चुके हैं। प्रश्न उठता है, यहाँ प्रयुक्त ‘अब’ और ‘क्यों’ पदों का …

संस्कृत अनुवाद कैसे करें – संस्कृत अनुवाद की सरलतम विधि – sanskrit anuvad ke niyam part – 3 Read More »

समास संस्कृत व्याकरण samas in sanskrit

समास संस्कृत व्याकरण अमसनम् अनेकेषां पदानाम् एकपदीभवनम् समास:।। जब दो या दो से अधिक शब्द आपस में मिलकर अपनी विभक्ति या चिन्ह को छोड़कर एक शब्द बन जाते हैं तो इस तो इस प्रकार एक पद बनने की क्रिया को समास कहते हैं तथा जो पद बनता है उसे सामासिक पद कहते हैं तथा जो …

समास संस्कृत व्याकरण samas in sanskrit Read More »

Scroll to Top