UP BOARD EXAM 2021: यूपी बोर्ड में कक्षा 10 की परीक्षा हुई रद्द कक्षा 12 की परीक्षा जुलाई में

UP BOARD EXAM 2021: यूपी बोर्ड में कक्षा 10 की परीक्षा हुई रद्द कक्षा 12 की परीक्षा जुलाई में

यूपी सरकार ने कोविड-19 को देखते हुए कक्षा 10 की परीक्षाएं निरस्त कर दी हैं |

तथा कक्षा 12 की परीक्षा माह के दूसरे सप्ताह में आयोजित की जाएंगी |

उत्तर प्रदेश सरकार ने उत्तर प्रदेश बोर्ड की कक्षा 10 की परीक्षाएं पूर्ण रूप से रद्द कर दी गई हैं इस साल यूपी बोर्ड में जिन बच्चों ने कक्षा 10 में दाखिला लिया था वे सभी बिना परीक्षा दिए पास हो गए हैं सभी बच्चों को प्रमोट कर दिया जाएगा सभी बच्चे पास हो चुके हैं यह फैसला उत्तर प्रदेश के मुखिया माननीय योगी आदित्यनाथ ने स्वयं लिया है दरअसल कई राज्यों में परीक्षाएं रद्द होने के बाद ऐसा अनुमान लगाया जा रहा था उत्तर प्रदेश में भी कक्षा 10 की परीक्षाएं रद्द हो सकती हैं लेकिन इसका फैसला मुख्यमंत्री के द्वारा होना था अतः मुख्यमंत्री माननीय योगी आदित्यनाथ जी ने फैसला लिया है कि उत्तर प्रदेश में कक्षा 10 की परीक्षाएं अब नहीं होगी तथा सभी छात्रों को कक्षा 11 में प्रमोट कर दिया जाएगा यह सूचना उत्तर प्रदेश के उपमुख्यमंत्री दिनेश शर्मा ने शनिवार को एक प्रेस कॉन्फ्रेंस के माध्यम से दी तथा कक्षा 12 की परीक्षा जुलाई के दूसरे सप्ताह में आयोजित की जाएगी जिसके लिए बहुत जल्द समय सारणी जारी की जाएगी |

कक्षा 12 की नई समय सारणी बहुत जल्द

उत्तर प्रदेश के उप मुख्यमंत्री दिनेश शर्मा ने बताया सी कक्षा 12 की परीक्षा जैसा के दो बार समय सारणी जारी हो चुकी है दोनों ही बार परीक्षा कार्यक्रम 15 कार्य दिवस में समाप्त होना था तो इस बार भी नई समय सारणी में कक्षा 12 की बोर्ड परीक्षा 15 कार्य दिवसों में ही संपादित कराई जाएगी

प्रश्न पत्र 3 घंटे की बजाय 90 मिनट का होगा

उप मुख्यमंत्री दिनेश शर्मा ने बताया है कि इस बार कक्षा 12 की परीक्षाएं 15 कार्य दिवस में होंगी तथा प्रश्न पत्र की अवधि 3 घंटा 15 मिनट की जगह पर 90 मिनट की होगी जिसमें कुल 10 प्रश्नों में से केवल तीन प्रश्न हल करने की स्वतंत्रता होगी तथा बच्चों को सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करना होगा जिसके लिए इस वर्ष परीक्षा केंद्रों में वृद्धि की गई है तथा कक्षा 10 के सभी बच्चे जो पास होकर कक्षा 11 में आ चुके हैं उनकी प्रोन्नति के विषय में दिशा निर्देश जारी करने के लिए उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षा परिषद को आदेश दिया गया है |

उत्तर प्रदश में सबसे पहले 30% पाठ्यक्रम कम हुआ था

उप मुख्यमंत्री दिनेश शर्मा ने यह भी बताया के माध्यमिक शिक्षा विभाग उत्तर प्रदेश हरसंभव छात्रों के हित को ध्यान में रखकर के कार्य कर रहा है उत्तर प्रदेश ही देश का प्रथम राज्य है जिसने पिछली वर्ष 2020 के जुलाई माह में ही कोविड-19 को देखते हुए अध्ययन और अध्यापन में हो रहे व्यवधान के दृष्टिगत सबसे पहले पाठ्यक्रम में 30 परसेंट की कमी कर दी थी |

छात्रों के हित को देखते हुए हरसंभव प्रयास किए गए

माध्यमिक शिक्षा विभाग द्वारा पिछले वर्ष के लॉकडाउन से ही छात्रों के हित को देखते हुए ऑनलाइन शिक्षा पर जोर दिया गया जिसमें अध्ययन और अध्यापन के साथ-साथ टेलीविजन पर स्वयं प्रभा चैनल ई विद्या चैनल तथा यूट्यूब पर माध्यमिक शिक्षा परिषद का ज्ञान गंगा चैनल इन सब के माध्यम से बच्चों के अध्ययन में हो रही असुविधा को दूर करने का प्रयास किया गया है पता 77 विद्यालय के सभी अध्यापकों ने सभी छात्रों को ऑनलाइन शिक्षा प्रदान की है |

कक्षा 6,7,8 के छात्र भी होंगे प्रमोट

कक्षा 6 7 8 के छात्र भी अगली कक्षा में प्रमोद होंगे ऐसा निर्णय पहले ही जारी हो चुका है प्रदेश के समस्त बोर्ड के समस्त विद्यालय के समस्त कक्षा 6 7 8 की छात्र अगली कक्षा में प्रमोट कर दिए जाएंगे |

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top